The ardent Love for Krishna

मेरे सामने तुम आते नहीं, पर मुझसे दूर कही जाते भी नहीं आज भी हूँ तेरे इंतज़ार में वहीँ, यमुना के किनारे , इसी चाह में ; की कब तेरी बंसी पुकारे! न ये नैना थकते, न ये रैना बीते, तेरी यादों से आज भी है हम सपने सीते. अधरे है चुप, पर नयन कर … More The ardent Love for Krishna